तीन पत्ती मूवी डाउनलोड

तीन पत्ती मूवी डाउनलोड

time:2021-10-21 12:00:59 ओला-ऊबर नहीं वसूल सकेंगे ज्यादा किराया, सरकार ने जारी कीं नई गाइलाइंस Views:4591

Baccarat की आधिकारिक वेबसाइट क्या है तीन पत्ती मूवी डाउनलोड 188bet आईओएस,casumo मंदिर दांव,lovebet 100 बेट क्रेडिट कोड,lovebet इंग्लैंड,lovebet प्रोमो कोड इंडिया 2021,lovebet86,बी स्पोर्ट्स चैनल,बैकरेट इंटेलिजेंट एनालिसिस सिस्टम,Baccarat का नवीनतम प्रथम जमा ऑफ़र,सट्टेबाजी बनाम जुआ,कैसीनो डे मोंटे कार्लो,कैसीनो के दिन शून्य,बैकरेट फर्स्ट डिपॉजिट ऑफर वाली कंपनियां,क्रिकेट प्रश्न और उत्तर 2021,एस्पोर्ट्स गेमिंग डेस्क,मछली पकड़ने की भीड़ प्रश्नोत्तरी,फुटबॉल अभिभावक,वैश्विक मनोरंजन खाता खोलना,बाधाओं को कैसे देखें,आईपीएल सबसे युवा खिलाड़ी,जंगल रम्मी ऐप डाउनलोड,लाइव कैसीनो होटल,लॉटरी अज़ी,लूडो हैक,ओ शतरंज का खेल,ऑनलाइन गेम एनीमे,ऑनलाइन पोकर बनाम लाइव,परिमच टेलीग्राम चैनल,पोकर ऑफ़लाइन,परिणाम जैकपॉट गिनी खेल हायर सोइर,नियम भेड़ियों,रम्मीकल्चर डाउनलोड APK,स्लॉट मशीन वेंडीटा,भारत में स्पोर्ट्स कार की कीमत,स्पोर्ट्सबुक वाशिंगटन राज्य,टेक्सास होल्डम जीतना,यूईएफए चैंपियंस लीग फुटबॉल बिग 6,कौन सी बैकारेट वेबसाइट सत्यनिष्ठा में अच्छी है?,линк а परिमाच,ऑनलाइन जुआ zikri,क्रिकेट ॲप्स,गोवा बीच,तीन पत्ती तीन पत्ती,बकरा हलाल करने का तरीका,बैकारेट meaning in english,सुकरात दार्शनिक, .ओला-ऊबर नहीं वसूल सकेंगे ज्यादा किराया, सरकार ने जारी कीं नई गाइलाइंस

ओला और उबर जैसी कैब एग्रीगेटर कंपनियां सबसे पीक आवर्स के दौरान किराये में कई गुना बढ़ोतरी कर देती हैं. अब सरकार ने इन कंपनियों पर नकेल कसने की तैयारी कर ली है.
ओला और उबर जैसी कैब एग्रीगेटर कंपनियां सबसे अहम समय यानी पीक आवर्स के दौरान किराये में कई गुना बढ़ोतरी कर देती हैं. लेकिन अब सरकार ने इन कंपनियों पर नकेल कसने की तैयारी कर ली है.

सरकार ने शुक्रवार को ओला और उबर जैसी कैब एग्रीगेटर कंपनियों के ऊपर मांग बढ़ने पर किराए बढ़ाने की एक सीमा लगा दी है. अब ये कंपनियां मूल किराए के डेढ़ गुने से अधिक किराया नहीं वसूल सकेंगी.

दरअसल सरकार का यह कदम अहम इसलिए भी हो जाता है, क्योंकि लोग कैब सेवाएं देने वाली कंपनियों के अधिकतम किराए पर लगाम लगाने की लंबे समय से मांग कर रहे थे. यह पहली बार है जब भारत में ओला और उबर जैसे कैब एग्रीगेटर्स को रेग्यूलेट करने के लिए सरकार ने दिशानिर्देश जारी किए हैं.

कार पूल करने वाले कमर्शियल प्लेटफॉर्म्स को भी नियमों का पालन करना होगा और इस लाइसेंस हालिस करना होगा. हालांकि, नए नियम तभी लागू होंगे, जब राज्य सरकारें उनसे जुड़ी अधिसूचना जारी करेंगे.

इसे भी पढ़ें: वैक्सीन का जायजा लेने पीएम मोदी पहुंचे अहमदाबाद, पुणे व हैदराबाद भी जाएंगे

कैब कंपनियों को डेटा स्थानीयकरण सुनिश्चित करना होगा कि डेटा भारतीय सर्वर में न्यूनतम तीन महीने और अधिकतम चार महीने उस तारीख से संग्रहीत किया जाए, जिस दिन डेटा जेनरेट किया गया था.

डेटा को भारत सरकार के कानून के अनुसार सुलभ बनाना होगा लेकिन ग्राहकों के डेटा को यूजर्स की सहमति के बिना शेयर नहीं किया जाएगा. कैब एग्रीगेटर्स को एक 24x7 कंट्रोल रूम स्थापित करना होगा और सभी ड्राइवरों को अनिवार्य रूप से हर समय कंट्रोल रूम से जुड़ा होना होग.

नए नियमों के मुताबिक, कैब कंपनी को बेस फेयर से 50 फीसदी कम चार्ज करने की अनुमति होगी. केंद्र सरकार ने एग्रीगेटर को रेगुलेट करने के लिए गाइडलाइन्स जारी किया है जिसका राज्य सरकारों को भी पालन करना अनिवार्य होगा.

वहीं, कैंसिलेशन फीस कुल किराए का दस प्रतिशत होगा, जो राइडर और ड्राइवर दोनों के लिए 100 रुपए से अधिक नहीं हो सकता. ड्राइवर को अब ड्राइव करने पर 80 फीसदी किराया मिलेगा, जबकि कंपनी को 20 प्रतिशत किराया ही मिल सकेगा.

मंत्रालय ने बयान में कहा है कि इससे पहले एग्रीगेटर का रेगुलेशन उपलब्ध नहीं था। अब इस नियम को ग्राहकों की सुरक्षा और ड्राइवर के हितों को ध्यान में रखकर बनाया गया है जिसे सभी राज्यों में लागू किया जाएगा. बता दें कि मोटर व्हीकल 1988 को मोटर व्हीकल एक्ट, 2019 से संशोधित किया गया है.



हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

केंद्र सरकारमोटर व्हीकल एक्टराज्य सरकारकैब एग्रीगेटर्सटैक्सीओलाकैब कंपनियांउबर

ETPrime stories of the day

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’
Strategy

Tech on board: Chalo navigates the tricky terrain of mass mobility with its ‘OS for buses’

8 mins read
Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle
Aviation

Rahul vs. Rakesh: turbulence ahead for IndiGo as promoters turn up the heat in legal battle

10 mins read
Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.
Banking

Inside story of how Centrum and BharatPe ‘unified’ for their banking dream. But challenges start now.

15 mins read

उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के विभिन्न फॉर्मेट में चुनौतियों और अड़चनों को दूर करने के लिए सीआईआई के तहत खुदरा सेक्‍टर के लोगों का मानना है कि सरकार को एक मजबूत रिटेल पॉलिसी लानी चाहिए.नौकरी जॉबस्पीक्स इंडेक्स की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, डिजिटल बदलाव की लहर में सूचना प्रौद्योगिकी-सॉफ्टवेयर क्षेत्र लगातार इससे बचा हुआ है.आईटी और रिटेल सेक्‍टर में मार्च में हुईंं ज्‍यादा भर्तियां : रिपोर्ट

धनतेरस और दिवाली के दिन सोना खरीदना शुभ माना जाता है.सरकार ने शुक्रवार को ओला और उबर जैसी कैब एग्रीगेटर कंपनियों के ऊपर मांग बढ़ने पर किराए बढ़ाने की एक सीमा लगा दी है.अगर आपके पास ये स्किल्‍स हैं तो नौकरी की नहीं है कमी

आईबीए ने बैंक कर्मचारी और अधिकारी संघों के साथ 11वीं द्विपक्षीय वेतनवृद्धि वार्ता नई सहमति के साथ सम्पन्न होने की बुधवार को घोषणा की.अपने घर के लिए अगर आप एयर प्यूरिफायर खरीदने जा रहे हैं तो कुछ बातों को जान लेना जरूरी है. यहां हम उन्हीं के बारे में बता रहे हैं.ये 5 टिप्‍स करियर में आगे बढ़ने में करेंगी मदद

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
lovebet एक्सबॉक्स वन

महामारी से पहले की तुलना में मजदूरी 450-500 रुपये से बढ़कर 550-600 रुपये प्रति दिन हो गई है. वहीं, मजदूरों की उपलब्‍धता 70-75 फीसदी घटी है.

स्पोर्ट्सबुक घंटे लास वेगास

भारतीय शहरों में करीब 15 फीसदी कंपनियों की फरवरी से अप्रैल 2021 के बीच फ्रेशर्स को भर्ती करने की योजना है. लर्निंग सॉल्‍यूशंस फर्म टीम लीज एडटेक के सर्वे से इसका पता चलता है. टीमलीज एडटेक के सीईओ शांतनु रूज ने कहा कि कोरोना की महामारी के बावजूद कंपनियों के एजेंडे में फ्रेशर्स की हायरिंग है.

cricket का हिंदी नाम

आईबीए ने बैंक कर्मचारी और अधिकारी संघों के साथ 11वीं द्विपक्षीय वेतनवृद्धि वार्ता नई सहमति के साथ सम्पन्न होने की बुधवार को घोषणा की.

स्पोर्ट्सनेट 0

डिजिटल इकनॉमी में नए टैलेंट की जरूरत होगी. आइए, यहां टॉप रिक्रूटमेंट फर्मों से उन स्किल्‍स के बारे में जानते हैं जो सबसे ज्‍यादा डिमांड में हैं.

ख फुटबॉल अकादमी

नौकरी जॉबस्पीक्स इंडेक्स की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, डिजिटल बदलाव की लहर में सूचना प्रौद्योगिकी-सॉफ्टवेयर क्षेत्र लगातार इससे बचा हुआ है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी