रमी वेरिएंट हिंदी में

रमी वेरिएंट हिंदी में

time:2021-10-18 18:30:05 कारें होंगी महंगी, जानिए कितनी बढ़ेंगी कीमतें Views:4591

चेसिंघम गार्डन यॉर्क रमी वेरिएंट हिंदी में 10cric ऑनलाइन बेटिंग,casumo आइंजाहलुंग,लियोवेगास क्यू२ 2020,lovebet बर्नले,lovebet नया खाता प्रस्ताव,lovebet आपके विवरण को पहचाना नहीं गया,वैकल्पिक ए लवबेट,बैकरेट क्षेत्र डेटा आँकड़े,बैकारेट गिलास के नुकसान,सट्टेबाजी की नौकरियां माल्टा,कैसीनो एपीके डाउनलोड,कैसीनो आप फोन द्वारा भुगतान कर सकते हैं,क्लासिक रम्मी प्लस लॉगिन,क्रिकेट जर्सी मॉडल,ई लॉटरी अप उत्पाद शुल्क,यूरोपीय फुटबॉल समय सारिणी,फुटबॉल नेट सट्टेबाजी,जेनेसिस कैसिनो नो डिपॉजिट बोनस 2020,फ़ुटबॉल मैच कितने समय तक चलता है,आईपीएल नौकरियां 2021,जैकपॉट तमिल पूरी फिल्म,लाइव लाठी बोली,हांगकांग और ताइवान से लाइव वेबकास्ट,लॉटरी क्रिसमस ड्रा 2019,एनबीए बास्केटबॉल सट्टेबाजी साइट,ऑनलाइन कैसीनो यूटन लाइसेंस,ऑनलाइन पोकर इंडिया रियल मनी,पैरिमैच मुफ्त डाउनलोड,क्रम में पोकर हाथ,r/pokerrr2,नियम दोहरा व्यंजन,रम्मी वेरिएंट ऐप,स्लॉट मशीन चित्र,स्पोर्ट्स 4 चेंज,स्पोर्ट्सबुक हॉर्स रेसिंग,टेक्सास होल्डम कार्टेन,शीर्ष 5 रम्मी ऐप्स,Baccarat की रोड लिस्ट क्या है?,एक्सबॉक्स पोकर,इलेक्ट्रॉनिक खेल रेट,क्या बैकारेट उचित है?,गोवा किस राज्य में है,डिटेल d1 मोबाइल,फुटबॉल वेब गेम Daquan,बेटा योजना,लॉटरी टिकट कहाँ से खरीदे,हर साल से ज्यादा .कारें होंगी महंगी, जानिए कितनी बढ़ेंगी कीमतें

टाटा मोटर्स और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसी कंपनियां पहले ही अप्रैल से दाम बढ़ाने के संकेत दे चुकी हैं.
कार के दाम जल्‍द और बढ़ सकते हैं. इनमें 2-3 फीसदी की बढ़ोतरी हो सकती है. कार बनाने वाली कंपनियां इस बारे में विचार कर रही हैं. कच्‍चे माल की लगातार बढ़ती कीमतों और ऑटो पार्ट्स की किल्‍लत के चलते वे इसके लिए मजबूर हैं. अगर ऐसा हुआ तो हाल की कुछ तिमाहियों में यह लगातार तीसरी बार होगा जब गाड़‍ियों के दाम बढ़ेंगे. पिछली बढ़ोतरी के बाद कारें करीब 4-6 फीसदी और टू-व्‍हीलर्स 8-10 फीसदी महंगे हो चुके हैं.

पिछले तीन महीनों में वाहनों को बनाने में लगने वाले कच्‍चे माल की कीमतें बढ़ी हैं. इससे वाहनों के दाम 10-15 फीसदी तक बढ़े हैं. इन्‍हें बनाने में स्‍टील, एलुमिनियम, रबर से लेकर कीमती धातुओं तक का इस्‍तेमाल होता है. पॉलीमर से लेकर रबर तक के भाव 10-60 फीसदी चढ़े हैं. सेमीकंडक्‍टर को लेकर डिमांड और सप्‍लाई में विसंगति के कारण भी इनपुस्‍ट कॉस्‍ट बढ़ी है.

इसे भी पढ़ें : टर्म इंश्‍योरेंस पॉलिसी हो सकती है महंगी, यह है वजह

तीन कंपनियों ने बताया कि चिप मैन्‍यूफैक्‍चरर्स को भारतीय ऑटो ओईएम (ओरिजनल इक्विपमेंट मैन्‍यूफैक्‍चरर्स) से कीमत बढ़ाने के अनुरोध मिलने लगे हैं. सप्लाई की शॉर्टैज और मांग बढ़ने से 2021 में चिप की कीमतें 4-6 फीसदी तक बढ़ सकती हैं. वहीं, सप्‍लाई की किल्‍लत अगले 2-3 तिमाहियों तक बनी रह सकती है.

टाटा मोटर्स और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसी कंपनियां पहले ही अप्रैल से दाम बढ़ाने के संकेत दे चुकी हैं. इन कंपनियों ने पिछले 6 महीनों में दो बार दाम बढ़ाए हैं. आयशर मोटर के स्‍वामित्‍व वाली रॉयल एनफील्‍ड ने भी कीमतों में 3-5 फीसदी बढ़ोतरी का अंदेशा जताया है. जबकि 2021 की शुरुआत में पहले ही यह इतनी बढ़ोतरी कर चुकी है.

इसे भी पढ़ें : फास्‍टैग नहीं लिया है? परेशान न हों, कुछ ही मिनट में गाड़ी में लग जाएगा

क्रेडिट सुईस के अनुसार, यह सही है कि मारुति सुजुकी ने प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले सबसे बाद में दाम बढ़ाने का एलान किया. लेकिन, 18 जनवरी से प्रभावी सभी मॉडलों पर 34,000 रुपये तक की बढ़ोतरी 2.7 फीसदी के बराबर थी. यह पिछले पांच साल में कंपनी की ओर से की गई सर्वाधिक बढ़त है.

महिंद्रा एंड महिंद्रा के ईडी राजेश जेजुरिकर ने आगाह किया था कि अगर इनपुट कॉस्‍ट में नरमी नहीं आई तो वित्‍त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही में मजबूरन दाम बढ़ाने पड़ेंगे. रॉयल एनफील्‍ड के एमडी विनोद दसारी ने कहा कि कंपनी जनवरी में पहले ही दाम बढ़ा चुकी है. अगले वित्‍त वर्ष से दोबारा वह कीमतों में करीब 3-5 फीसदी बढ़ोतरी के बारे में सोच रही है.

सबसे बड़ी समस्‍या स्‍टील की कीमतों में जोरदार तेजी है. पिछले चार महीनों में इसके दाम 36,000 रुपये प्रति टन से उलछकर 58,000 रुपये प्रति टन पर पहुंच गए हैं. वहीं, पेट्रोल-डीजल, हाईवे टोल और टायर के दाम बढ़ने से लॉजिस्टिक्‍स और सप्‍लाई की कॉस्‍ट बढ़ी है.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

टॉपिक

कार की कीमतेंबढ़ेंगे दामइनपुट कॉस्‍टकच्‍चा मालऑटो पार्ट्स

ETPrime stories of the day

How DealShare’s multitasking community leaders can help it build a Meesho for grocery beyond metros
Digital economy

How DealShare’s multitasking community leaders can help it build a Meesho for grocery beyond metros

12 mins read
PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.
Modern retail

PrimeTalk invite | Blurring the lines of retail.

2 mins read
Rooms and reservations: what Oyo’s DRHP tells and does not tell us about its business
Markets

Rooms and reservations: what Oyo’s DRHP tells and does not tell us about its business

8 mins read

नयी दिल्ली, 18 अक्टूबर (भाषा) कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर सोमवार को मोदी सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि पेट्रोलियम उत्पादों के दाम इस कदर बढ़ा दिए गए हैं कि अब हवाई चप्पल वालों और मध्यम वर्ग का सड़क पर सफर करना भी मुश्किल हो गया है। उन्होंने एक खबर साझा करते हुए ट्वीट किया, ‘‘वादा किया था कि हवाई चप्पल वाले हवाई जहाज से सफर करेंगे। लेकिन भाजपा सरकार ने पेट्रोल-डीजल के दाम इतने बढ़ा दिए कि अब हवाई चप्पल वालों और मध्यम वर्ग का सड़क पर सफर करना भी मुश्किलफास्टैग इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन तकनीक है. इसमें रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) का इस्तेमाल होता है. इस टैग को वाहन के विंडस्क्रीन पर लगाया जाता है.कोविड-19 टीके के कच्चे माल के लिए आपूर्ति श्रृंखला को खुला रखने की जरूरत : सीतारमण

हाल में इनपुट कॉस्‍ट में बढ़ोतरी का हवाला देते हुए मारुति सुजुकी इंडिया, रेनॉ इंडिया, होंडा कार्स, महिंद्रा एंड महिंद्रा, फोर्ड इंडिया, इसुजु, बीएमडब्ल्यू इंडिया, ऑडी इंडिया और हीरो मोटो कार्प जैसी वाहन कंपनियां पहले ही जनवरी से कीमतें बढ़ाने की घोषणा कर चुकी हैं.महिंद्रा एंड महिंद्रा ने शुक्रवार को संकेत दिए कि कमोडिटी के कीमतों में आई तेजी के चलते आने वाले कुछ महीनों में वह अपने वाहनों की कीमत बढ़ा सकती है.मारुति की कारें होंगी महंगी, अप्रैल से बढ़ जाएंगे दाम

नयी दिल्ली, 18 अक्टूबर (भाषा) आईएलएस अस्पताल श्रृंखला का परिचालन करने वाली जीपीटी हेल्थकेयर ने भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) के पास आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) के लिए दस्तावेज जमा कराए हैं। आईपीओ के तहत कंपनी 17.5 करोड़ रुपये के नए शेयर जारी करेगी। इसके अलावा कंपनी की एक प्रवर्तक इकाई तथा एक निवेशक 2.98 करोड़ इक्विटी शेयरों की बिक्री पेशकश (ओएफएस) लाएंगे। नए शेयरों की बिक्री से जुटाई गई राशि का इस्तेमाल कंपनी चिकित्सा उपकरणों की खरीद और अन्य कॉरपोरेट कामकाज के लिए करेगी। जीपीटी हेल्थकेयर पूर्वी भारत में ‘आईएलएस हॉस्पिटल्स’ ब्रांड के तहत मध्यम आकारSeptember job status: देश के 8 राज्यों में बेरोजगारी की दर सितंबर में 2 अंकों में पहुंच गई है।कार खरीदने जा रहे हैं? 15 लाख रुपये तक के बजट में ये हैं शानदार ऑप्‍शन

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
उत्पत्ति कैसीनो निकासी की समीक्षा

क्या आप यह जानते हैं कि आपके कार या बाइक में डलने वाले पेट्रोल का भाव अब हवाई जहाज के ईंधन की तरह इस्तेमाल होने वाले एविएशन टर्बाइन क्यूल या एटीएफ (ATF) से ज्यादा महंगा हो गया है।

casumo अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

महिंद्रा एंड महिंद्रा ने शुक्रवार को संकेत दिए कि कमोडिटी के कीमतों में आई तेजी के चलते आने वाले कुछ महीनों में वह अपने वाहनों की कीमत बढ़ा सकती है.

गोवा सिटी फोटो गैलरी

पिछले तीन महीनों में वाहनों को बनाने में लगने वाले कच्‍चे माल की कीमतें बढ़ी हैं. इससे वाहनों के दाम 10-15 फीसदी तक बढ़े हैं.

टीआर क्रिकेट APK

नयी दिल्ली, 18 अक्टूबर (भाषा) पीएनबी हाउसिंग फाइनेंस का शेयर सोमवार को पांच प्रतिशत टूटकर अपनी निचली सर्किट सीमा को छू गया। कंपनी ने अमेरिका की निजी इक्विटी कंपनी कार्लाइल ग्रुप और अन्य को 4,000 करोड़ रुपये की शेयर बिक्री योजना को छोड़ दिया है जिसके बाद उसके शेयरों में गिरावट आई। बीएसई में कंपनी का शेयर पांच प्रतिशत टूटकर 607.10 रुपये की अपनी निचली सर्किट सीमा पर आ गया। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) में भी कंपनी का शेयर अपने निचले सर्किट पर आ गया। एनएसई में कंपनी का शेयर 4.99 प्रतिशत टूटकर 606.75 रुपये पर आ गया।

क्रिकेट स्कोर बुक पीडीएफ

नयी दिल्ली, 18 अक्टूबर (भाषा) आईएलएस अस्पताल श्रृंखला का परिचालन करने वाली जीपीटी हेल्थकेयर ने भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) के पास आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) के लिए दस्तावेज जमा कराए हैं। आईपीओ के तहत कंपनी 17.5 करोड़ रुपये के नए शेयर जारी करेगी। इसके अलावा कंपनी की एक प्रवर्तक इकाई तथा एक निवेशक 2.98 करोड़ इक्विटी शेयरों की बिक्री पेशकश (ओएफएस) लाएंगे। नए शेयरों की बिक्री से जुटाई गई राशि का इस्तेमाल कंपनी चिकित्सा उपकरणों की खरीद और अन्य कॉरपोरेट कामकाज के लिए करेगी। जीपीटी हेल्थकेयर पूर्वी भारत में ‘आईएलएस हॉस्पिटल्स’ ब्रांड के तहत मध्यम आकार

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी
पैरिमैच कंपनी

नयी दिल्ली, 18 अक्टूबर (भाषा) फ्रैंकलिन टेंपलटन ने अपनी इमर्जिंग मार्केट इक्विटी-भारत की टीम को मजबूत करते हुए अजय अर्गल और वेंकटेश संजीवी को पोर्टफोलियो प्रबंधक नियुक्त किया है। कंपनी ने सोमवार को बयान में कहा कि अर्गल और संजीवी 12 अक्टूबर से पोर्टफोलियो प्रबंधक के रूप में टीम में शामिल हो गए हैं। दोनों चेन्नई में काम संभाल रहे हैं और वे इमर्जिंग मार्केट इक्विटी-भारत टीम के प्रमुख आनंद राधाकृष्णन को रिपोर्ट करेंगे। अर्गल फ्रैंकलिन इंडिया फोकस्ड इक्विटी कोष और फ्रैंकलिन बिल्ड इंडिया फंड के पोर्टफोलियो प्रबंधक होंगे। संजीवी फ्रैंकलिन इंडिया ब्लूचिप फंड और फ्रैंकलिन इंडिया इक्विटी एडवांटेज

क्या बांग्लादेश में ऑनलाइन जुआ कानूनी है?

नयी दिल्ली, 18 अक्टूबर (भाषा) आईएलएस अस्पताल श्रृंखला का परिचालन करने वाली जीपीटी हेल्थकेयर ने भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) के पास आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) के लिए दस्तावेज जमा कराए हैं। आईपीओ के तहत कंपनी 17.5 करोड़ रुपये के नए शेयर जारी करेगी। इसके अलावा कंपनी की एक प्रवर्तक इकाई तथा एक निवेशक 2.98 करोड़ इक्विटी शेयरों की बिक्री पेशकश (ओएफएस) लाएंगे। नए शेयरों की बिक्री से जुटाई गई राशि का इस्तेमाल कंपनी चिकित्सा उपकरणों की खरीद और अन्य कॉरपोरेट कामकाज के लिए करेगी। जीपीटी हेल्थकेयर पूर्वी भारत में ‘आईएलएस हॉस्पिटल्स’ ब्रांड के तहत मध्यम आकार