लूडो अर्निंग ऐप 2020

लूडो अर्निंग ऐप 2020

time:2021-10-20 02:32:06 इंटरनेशनल फंड के बारे में जानिए अपने हर सवाल का जवाब Views:4591

lovebet लाइव लूडो अर्निंग ऐप 2020 188bet आइल ऑफ मैन,casumo टेस्ट,lovebet १०० बोनस कोड,lovebet epe30,lovebet प्रोमो कोड,lovebet88वीएन। जाल,बीए फुटबॉल एसोसिएशन,बैकरेट इंटरनेशनल,बैकारेट की सबसे वैज्ञानिक सट्टेबाजी पद्धति,बेटिंग बनाम ट्रेडिंग,कैसीनो डेमो,कैसिनोडेज़ ज़ोन,कूलमैथगेम्स/0-शतरंज,क्रिकेट प्रश्नोत्तरी,एस्पोर्ट्स गेमिंग माउस,मछली पकड़ने की भीड़ नदी,सप्ताहांत फुटबॉल,वैश्विक मनोरंजन ऑनलाइन,baccarat में सड़क को कैसे देखें,आईपीएल जी न्यूज,जंगल रम्मी कैश APK,लाइव कैसीनो होटल फिलाडेल्फिया,लॉटरी बाबा पुराना परिणाम,लूडो हैक ऐप,हे शतरंज नान,ऑनलाइन गेम एप्लीकेशन,ऑनलाइन पोकर असली पैसे जीतते हैं,पारिमैच नियम और शर्तें,पोकर पर पोकर,10cric . की समीक्षा,नियम x राजदूत गीत,रम्मीकल्चर डाउनलोड पीसी,स्लॉट मशीन वीडियो,खेल श्रेणियां,स्पोर्ट्सबुक स्वागत बोनस,ऑनलाइन दोस्तों के साथ टेक्सास होल्डम,यूईएफए चैंपियंस लीग फुटबॉल बिग नेम लेवल 7,कौन सी बैकारेट वेबसाइट सुरक्षित है,स्थिति 3/4 लवबेट,ऑनलाइन जुआ कैसे खेले,क्रिकेट आईपीएल लाइव,गोवा बीच फोटो,तीन पत्ती धनी,बकरी अनुसंधान केंद्र,बैकारेट mp3,सुपर बवंडर, .इंटरनेशनल फंड के बारे में जानिए अपने हर सवाल का जवाब

टैक्स के लिहाज से इंटरनेशनल फंड को वही दर्जा हासिल है, जो डेट म्यूचुअल फंड का है. इस फंड में तीन साल से कम समय तक निवेश बनाए रखने पर निवेशक को इसके मुनाफे पर शॉर्ट टर्म कैपिटल गेंस टैक्स देना पड़ता है.
पिछले कुछ समय से इंटरनेशनल फंड की बहुत चर्चा हो रही है. इसकी वजह इन फंडों में निवेशकों की बढ़ती दिलचस्पी है. हालांकि, अब भी निवेशकों को ऐसे फंड़ों के बारे में बहुत ज्यादा जानकारी नहीं है. इंटरनेशनल फंड का मतलब क्या है? क्या इन फंडों में निवेश का क्या फायदा है? क्या आपको इस फंड में निवेश करना चाहिए? आइए इन सवालों का जवाब जानने की कोशिश करते हैं.

इंटरनेशनल फंड में आपको क्यों निवेश करना चाहिए?
जोखिम घटाने के लिए इक्विटी म्यूचुअल फंडों के पोर्टोफोलियो का डायवर्सिफिकेशन जरूरी है. डायवर्सिफिकेशन का मतलब अलग-अलग तरह के फंडों में निवेश है. कई बार भारतीय अर्थव्यवस्था का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहता है, जबकि विदेशी बाजार का प्रदर्शन अच्छा होता है. दुनिया के कई बाजारों का भारत से ज्यादा संबंध नहीं है. ऐसे में इंटरनेशनल फंड में निवेश से डायवर्सिफिकेशन में मदद मिलती है. इससे आपका जोखिम घट जाता है.

निवेशकों के लिए इंटरनेशनल फंड में निवेश के लिए कौन-कौन से विकल्प हैं?
आज भारतीय निवेशकों के लिए इंटरनेशनल फंड के कई विकल्प हैं. ये देश, क्षेत्र, थीम और टेक्नोलॉजी पर आधारित हैं. कोई भारतीय निवेशक रुपये में इन इंटरनेशनल फंडों में निवेश कर सकता है. आप सामान्य म्यूचुअल फंड की तरह इंटरनेशनल फंड का चुनाव कर उसमें ऑनलाइन या ऑफलाइन निवेश कर सकते हैं.

इंटरनेशनल फंड किस तरह विदेशी शेयरों में निवेश करते हैं?
भारतीय बाजार में मौजूद इंटरनेशनल फंड सीधे विदेशी कंपनियों के शेयरों में या विदेश के दूसरे फंडों में निवेश करते हैं. दूसरे फंडों में निवेश को फीडर रूट कहा जाता है. यह एक तरह से फंड ऑफ फंड की तरह है.

यह भी पढ़ें : एनपीएस में निवेश की उम्र सीमा बढ़कर हो सकती है 70 साल!

इंटरनेशनल फंडों के रिटर्न पर किस तरह टैक्स लगता है?
टैक्स के लिहाज से इंटरनेशनल फंड को वही दर्जा हासिल है, जो डेट म्यूचुअल फंड का है. इस फंड में तीन साल से कम समय तक निवेश बनाए रखने पर निवेशक को इसके मुनाफे पर शॉर्ट टर्म कैपिटल गेंस टैक्स देना पड़ता है. टैक्स की दर निवेशक के टैक्स स्लैब के अनुसार होती है. तीन साल से ज्यादा वक्त तक फंड में निवेश बनाए रखने पर निवेशक को इंडेक्सेशन का फायदा मिलता है. इसकी वजह यह है कि इसे लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस माना जाता है. इंडेक्सेशन के बाद टैक्स की दर 20 फीसदी होती है.

क्या इंटरनेशनल फंड में निवेश करने में बहुत जोखिम है?
शेयरों में निवेश से जुड़े जोखिम के अलावा ऐसे फंड में निवेश से करेंसी का जोखिम भी जुड़ा होता है. दूसरे देश की मुद्रा के मुकाबले रुपये में कमजोरी और मजबूती का असर आपके रिटर्न पर पड़ता है. भारत में निवेशक रुपये में निवेश करता है. लेकिन, म्यूचुअल फंड कंपनी को उस देश की मुद्रा में इंटरनेशनल फंड में निवेश करना पड़ता है, जहां का वह फंड होता है. इसलिए इंटरनेशनल फंड में निवेश करने से पहले आपको करेंसी में होने वाले उतार-चढ़ाव के जोखिम के लिए तैयार रहना होगा.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

इंटरनेशनल फंडडेट फंडइक्विटी म्यूचुअल फंडम्यूचुअल फंडफंड ऑफ फंड

ETPrime stories of the day

How Srei lenders hid potential related-party transactions by routing them through public trusts
Under the lens

How Srei lenders hid potential related-party transactions by routing them through public trusts

10 mins read
Realty boom, capex cycle, Unitech’s fall: what pro-cyclical investors can learn from the past
Investing

Realty boom, capex cycle, Unitech’s fall: what pro-cyclical investors can learn from the past

14 mins read
Lilly withered in India’s blooming diabetes market. Key deficiency: an India-specific sales pitch.
Pharma

Lilly withered in India’s blooming diabetes market. Key deficiency: an India-specific sales pitch.

9 mins read

हम सीनियर सिटीजन के लिए निवेश के पांच ऐसे विकल्प बता रहे हैं जिससे उनकी मेहनत की कमाई पर अच्छी नियमित आय आती रहे.सक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले लार्ज कैप म्‍यूचुअल फंड के तौर-तरीकों का पिछले कुछ सालों में सभी को पता लग गया है. कुछ को छोड़ ज्यादातर स्कीमों ने प्रमुख सूचकांकों से कमतर प्रदर्शन किया है.कैसा है एलएंडटी टैक्‍स एडवांटेज म्‍यूचुअल फंड का 5 साल का रिपोर्ट कार्ड?

ब्‍याज दरों में कटौती का फैसला वापस होने के बाद एक सामान्‍य धारणा बनी. वह यह थी कि चुनावों को देखते हुए यह फैसला लिया गया.अधिकतर निवेशक इक्विटी फंड्स में निवेश करने के लिए सिस्टेमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (सिप) को तरजीह देते हैं. हाल के समय में सिप को बहुत अधिक लोकप्रियता मिली है.वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड ईटीएफ में निवेश चार गुना बढ़ा

साल में कम से कम एक निवेश की समीक्षा जरूर करें और दोबारा संतुलन बनाएं. अपने लिए पर्याप्‍त लाइफ इंश्‍योरेंस खरीदें.फ्रैंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंड ने शुक्रवार को कहा कि उसकी छह योजनाओं को अप्रैल 2020 में बंद होने के बाद से 15,776 करोड़ रुपये मिले हैं.लंबी अवधि में जमा के लिए पोस्ट ऑफिस का रुख कर रहे हैं निवेशक

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
21 बजे rodzu

प्राइम इंवेस्टर ने निवेशकों को फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की सभी स्कीमों से निकासी करने की सलाह दी है. प्राइम इंवेस्टर चेन्नई की एक स्वतंत्र रिसर्च फर्म है.

फुटबॉल मैचों का विश्लेषण कैसे करें

सामान्‍य सिप के मामले में निवेशक सिप की अवधि में अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं बढ़ा सकते हैं. अगर वे इसे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें नए सिरे से सिप शुरू करना होगा या एकमुश्त निवेश करने की जरूरत होगी.

स्टेटस धार्मिक

अधिकतर निवेशक इक्विटी फंड्स में निवेश करने के लिए सिस्टेमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (सिप) को तरजीह देते हैं. हाल के समय में सिप को बहुत अधिक लोकप्रियता मिली है.

टसेपेल्लिन परिमाच

अपने साथ की प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले डॉ रेड्डीज लैब का वैल्यूएशन कम है. साथ ही बैलेंसशीट भी मजबूत है.

लूडो टैलेंट मॉड एपीके

पिछले 10 साल में ओएनजीसी अपने उत्पादन में कोई बड़ी बढ़ोतरी करने में नाकामयाब रही है.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी