casumo ज़हल्ट निक्ट औस

casumo ज़हल्ट निक्ट औस

time:2021-10-20 01:29:59 फसल अवशेष जलाने से जुड़े उत्सर्जन के मामले में भारत विश्व में शीर्ष स्थान पर : रिपोर्ट Views:4591

150g . द्रव्यमान की एक क्रिकेट गेंद casumo ज़हल्ट निक्ट औस 10cric साइन अप,casumo जुआ आयोग,लियोवेगास साइन अप,lovebet कोड 00,lovebet भारत में काम नहीं कर रहा है,lovebet जाम्बिया लॉगिन,क्या ऑनलाइन कैसीनो विश्वसनीय हैं?,बैकरेट मुक्त विश्लेषण सॉफ्टवेयर,बैकारेट फूलदान विंटेज,भारत में सट्टेबाजी कानूनी ताजा खबर,कैसीनो समुद्र तट,कैसीनो वेक्टर,क्लासिक रम्मी रणनीति,बच्चों के लिए क्रिकेट किट,ई स्पोर्ट्स ज़ुकुनफ़्ट,बकारट रोड का अनुभव,फ़ुटबॉल ऑड्स ट्रेडर स्पष्टीकरण,उत्पत्ति कैसीनो Quora,फ़ुटबॉल खेल का विश्लेषण कैसे करें,आईपीएल नई टीम,जैकपॉट यूटाह,मियामी में लाइव लाठी टेबल,लॉटरी 07/05/21,लॉटरी जाम्बिया,एनबीए डाइविंग रैंकिंग,असली पैसे के साथ ऑनलाइन कैसीनो,ऑनलाइन पोकर कोस्टेनलोस ओह्ने एन्मेल्डुंग,पैरामैच हॉर्स रेसिंग,कैसीनो में पोकर,असली ड्रैगन टाइगर क्रैकिंग,नियम हाथ सही,रम्मी वेरिएंट प्रश्न,स्लॉट मशीन कुंजी प्रतिस्थापन,खेल 66,स्पोर्ट्सबुक जॉब रिमोट,टेक्सास होल्डम मानोस,टोटल फ़ुटबॉल,अगर आप ऑनलाइन बैकारेट में पैसे खो देते हैं तो क्या करें?,एक्स-पोकर ऐप,ऊटी गोवा,क्रिकेट cake,गोवा घूमने की जगह बताओ,ड्रैगन किंग,फुटबॉल हिंदी नाम,बेटा वीडियो सॉन्ग,लॉटरी पंजाब result, .फसल अवशेष जलाने से जुड़े उत्सर्जन के मामले में भारत विश्व में शीर्ष स्थान पर : रिपोर्ट

नयी दिल्ली,19 अक्टूबर (भाषा) भारत फसल अवशेष जलाने से जुड़े उत्सर्जन में शीर्ष स्थान पर है। जलवायु प्रौद्योगिकी स्टार्टअप ब्लू स्काई एनालिटिक्स द्वारा जारी एक नयी रिपोर्ट में यह दावा किया गया है।

इसके मुताबिक भारत, 2015 से 2020 की अवधि के दौरान कुल वैश्विक उत्सर्जन के 13 फीसदी हिस्से के लिए जिम्मेदार है।

ब्लू स्काई एनालिटिक्स की स्थापना भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) के एक पूर्व छात्र ने की है। स्टार्टअप ने 2020 में फसल अवशेष जलाने से होने वाले उत्सर्जन के 12.2 प्रतिशत हिस्से के लिए भारत के जिम्मेदार रहने का जिक्र किया है।

रिपोर्ट में उपलब्ध आंकड़ों से भारत में वन और फसल अवशेषों के जीवाश्मों को जलाये जाने की हालिया प्रवृत्ति के बारे में नयी चीजों का पता चलता है। उदाहरण के तौर पर आंकड़ों से यह सत्यापित होता है कि 2016 से 2019 के बीच फसल अवशेष को जलाने की प्रवृत्ति में कमी आई। इसके लिए इस अवधि के दौरान फसल अवशेष आग में 11.39 प्रतिशत तक कमी आने का जिक्र किया गया है।

हालांकि, इसमें 2019-20 में उत्सर्जन में 12.8 प्रतिशत वृद्धि होने का भी जिक्र किया गया है, जिससे भारत की वैश्विक हिस्सेदारी बढ़ कर 12.2 प्रतिशत हो जाती है।

ब्लू स्काई एनालिटिक्स, वैश्विक गठबंधन क्लाइमेट ट्रेस का भी हिस्सा है।

(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)
(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)

ETPrime stories of the day

Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival
Recent hit

Why Rivigo, which hired from all sectors, is zeroing in on seasoned logistics hands for its revival

11 mins read
Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?
Electric vehicles

Financing is still a blind spot for EVs. Can Ola Electric be the game changer?

10 mins read
Kisan Credit Card is critical for agriculture. But can the scheme overcome the challenges?
Agriculture

Kisan Credit Card is critical for agriculture. But can the scheme overcome the challenges?

7 mins read

नयी दिल्ली, 19 अक्टूबर (भाषा) भारत की पेंशन प्रणाली 43 व्यवस्थाओं की रैंकिंग में 40वें स्थान पर है। वहीं पेंशन के मामले में पर्याप्त लाभ से जुड़े पर्याप्तता उप-सूचकांक (एडिक्वेसी सब-इंडेक्स) के मामले में निचले पायदान पर है।मंगलवार को जारी मर्सर सीएफए वैश्विक पेंशन सूचकांक (एमसीजीपीआई) में यह कहा गया है। इसके अनुसार देश में सेवानिवृत्ति के बाद पर्याप्त आय सुनिश्चित करने को लेकर पेंशन प्रणाली को बेहतर बनाने लिये रणनीतिक सुधारों की जरूरत है। रिपोर्ट के अनुसार, भारत में सामाजिक सुरक्षा का दायरा मजबूत और पर्याप्त नहीं होने से कार्यबल को पेंशन की व्यवस्था को लेकर स्वयं बचत करनी होतीकोलकाता, 19 अक्टूबर (भाषा) पश्चिम बंगाल सरकार ने ताजपुर में गहरे समुद्र के एक नए निजी बंदरगाह के निर्माण के लिए नये सिरे से बोलियां आमंत्रित की हैं, जिसमें निवेशकों को आकर्षित करने के लिए 1,000 एकड़ की भार-मुक्त भूमि जैसी "बेहतर" स्थिति की पेशकश की गयी है। एक अधिकारी ने मंगलवार को यह जानकारी दी। पश्चिम बंगाल औद्योगिक विकास निगम (डब्ल्यूबीआईडीसी) के अधिकारी ने कहा कि राज्य ऐसी परियोजनाओं में सामान्य 30-35 वर्षों के मुकाबले 99 साल की रियायत अवधि की पेशकश कर रहा है। पिछले साल दिसंबर में पश्चिम बंगाल समुद्री बोर्ड ने पूर्वी मिदनापुर जिले में बनने वालेप. बंगाल सरकार ने ताजपुर बंदरगाह के निर्माण के लिए नियमों में ढील के साथ नयी बोलियां मंगायीं

नयी दिल्ली, 19 अक्टूबर (भाषा) सीमेंट कंपनी एसीसी लि. का एकीकृत शुद्ध लाभ सितंबर में समाप्त तीसरी तिमाही में 23.74 प्रतिशत बढ़कर 450.21 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी ने 363.85 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था। कंपनी का वित्त वर्ष जनवरी से दिसंबर होता है। बीएसई को भेजी सूचना में कंपनी ने कहा कि तिमाही के दौरान उसकी आय 5.98 प्रतिशत बढ़कर 3,749 करोड़ रुपये पर पहुंच गई, जो एक साल पहले समान अवधि में 3,537.31 करोड़ रुपये थी। एसीसी के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ)नयी दिल्ली, 19 अक्टूबर (भाषा) नेटवर्क 18 मीडिया एंड इनवेस्टमेंट्स लि. का एकीकृत शुद्ध लाभ वित्त वर्ष 2021-22 की जुलाई-सितंबर तिमाही में करीब तीन गुना होकर 199.27 करोड़ रुपये रहा। आय और परिचालन में सुधार तथा वित्तीय लागत कम होने से कंपनी का लाभ बढ़ा है। मीडिया कंपनी ने मंगलवार को शेयर बाजार को दी सूचना में कहा कि इससे पूर्व वित्त वर्ष 2020-21 की इसी तिमाही में कंपनी का शुद्ध लाभ 68.01 करोड़ रुपये था। कंपनी की परिचालन आय आलोच्य तिमाही में 30.76 प्रतिशत बढ़कर 1,387.24 करोड़ रुपये रही जो एक साल पहले 2020-21 की जुलाई-सितंबर तिमाही में 1,060.89कोविड से पहले के स्‍तर पर पहुंची कंपनियों में भर्ती : सर्वे

नयी दिल्ली, 19 अक्टूबर (भाषा) टीवी18 ब्रॉडकास्ट लि. ने मंगलवार को कहा कि 30 सितंबर, 2021 को समाप्त चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में उसका एकीकृत शुद्ध लाभ दोगुना होकर 231.40 करोड़ रुपये रहा। मीडिया कंपनी ने शेयर बाजार को दी गयी नियामकीय सूचना में कहा कि कंपनी ने एक साल पहले इसी अवधि में 115.55 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था। समीक्षाधीन तिमाही में कंपनी की एकीकृत परिचालन आय 29.14 प्रतिशत बढ़कर 1,307.90 करोड़ रुपये हो गया। एक साल पहले इसी अवधि में यह 1,012.80 करोड़ रुपये था। कंपनी ने एक बयान में कहा, "तिमाही के लिए एकीकृतएओन की बुधवार को जारी सर्वे रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में काम करने वाली कंपनियों ने कोविड-19 से जुड़ी चुनौतियों के बावजूद लचीलारुख दिखाया है.रेलवे में 1.40 लाख पदों पर भर्ती के लिए 15 दिसंबर से शुरू होगी परीक्षा

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
सभी नियमों में पोकर

नयी दिल्ली,19 अक्टूबर (भाषा) भारत फसल अवशेष जलाने से जुड़े उत्सर्जन में शीर्ष स्थान पर है। जलवायु प्रौद्योगिकी स्टार्टअप ब्लू स्काई एनालिटिक्स द्वारा जारी एक नयी रिपोर्ट में यह दावा किया गया है। इसके मुताबिक भारत, 2015 से 2020 की अवधि के दौरान कुल वैश्विक उत्सर्जन के 13 फीसदी हिस्से के लिए जिम्मेदार है। ब्लू स्काई एनालिटिक्स की स्थापना भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) के एक पूर्व छात्र ने की है। स्टार्टअप ने 2020 में फसल अवशेष जलाने से होने वाले उत्सर्जन के 12.2 प्रतिशत हिस्से के लिए भारत के जिम्मेदार रहने का जिक्र किया है। रिपोर्ट में उपलब्ध आंकड़ों

जुआ मशीन और जुआ मशीन के बीच का अंतर

रिपोर्ट में कहा गया है कि अनलॉक उपायों के बाद आवाजाही में सुधार से रियल एस्टेट क्षेत्र में नियुक्ति गतिविधियां 44 फीसदी सुधरी हैं.

10cric भुगतान विधि

नयी दिल्ली, 19 अक्टूबर (भाषा) हाजिर बाजार में कमजोरी के रुख को देखते हुए कारोबारियों ने अपने सौदों की कटान की जिससे वायदा कारोबार में मंगलवार को बिनौलातेल खली की कीमत 40 रुपये की गिरावट के साथ 2,476 रुपये प्रति क्विन्टल रह गई। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि हाजिर बाजार की कमजोर मांग के बीच मौजूदा स्तर पर कारोबारियों द्वारा अपने सौदों की बिकवाली करने से मुख्यत: बिनौलातेल खली वायदा कीमतों में गिरावट दर्ज हुई। एनसीडीईएक्स में बिनौलातेल खली के दिसंबर माह में डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 40 रुपये अथवा 1.59 प्रतिशत

पैरिमैच प्रीमियर लीग

नयी दिल्ली, 19 अक्टूबर (भाषा) हाजिर बाजार में कमजोरी के रुख को देखते हुए कारोबारियों ने अपने सौदों की कटान की जिससे वायदा कारोबार में मंगलवार को बिनौलातेल खली की कीमत 40 रुपये की गिरावट के साथ 2,476 रुपये प्रति क्विन्टल रह गई। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि हाजिर बाजार की कमजोर मांग के बीच मौजूदा स्तर पर कारोबारियों द्वारा अपने सौदों की बिकवाली करने से मुख्यत: बिनौलातेल खली वायदा कीमतों में गिरावट दर्ज हुई। एनसीडीईएक्स में बिनौलातेल खली के दिसंबर माह में डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 40 रुपये अथवा 1.59 प्रतिशत

जुआ यूआरएल

नयी दिल्ली, 19 अक्टूबर (भाषा) हाजिर बाजार में कमजोरी के रुख को देखते हुए कारोबारियों ने अपने सौदों की कटान की जिससे वायदा कारोबार में मंगलवार को बिनौलातेल खली की कीमत 40 रुपये की गिरावट के साथ 2,476 रुपये प्रति क्विन्टल रह गई। बाजार विश्लेषकों ने कहा कि हाजिर बाजार की कमजोर मांग के बीच मौजूदा स्तर पर कारोबारियों द्वारा अपने सौदों की बिकवाली करने से मुख्यत: बिनौलातेल खली वायदा कीमतों में गिरावट दर्ज हुई। एनसीडीईएक्स में बिनौलातेल खली के दिसंबर माह में डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत 40 रुपये अथवा 1.59 प्रतिशत

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी